ना कसूर मेरा था 

ना कसूर उसका था 

कसूर तो उस हरामखोर का था 

जो कहता था

भाई तुझे ही देख रही है 
             M'K

Post a Comment

Previous Post Next Post