*कभी हमसे भी दो पल की... "मुलाकात" कर लिया करो.....*
:
*क्या पता आज हम तरस रहे हैं  कल "तुम" ढुढते फिरो.......*
                                   M'K

Post a Comment

Previous Post Next Post