*दुःख में स्वयं की एक अंगुली*
      *आंसू पोंछती है ;*
*और सुख में दसो अंगुलियाँ*
          *ताली बजाती है ;*
*जब स्वयं का शरीर ही ऐसा*
           *करता है तो*
*दुनिया से क्या गिला-शिकवा*
           *करना...!!✍🏻
     🙏🏽सुप्रभात🙏🏽
                  M'K

Post a Comment

Previous Post Next Post